Subscribe Us

स्मार्टफोन की कुछ झुटी अफवाएं । false rumor about smartphone hindi

false rumor about smartphone hindi

 स्मार्टफोन से जुड़ी कुछ झुती अफवाएं । आज हम बताने जा रहे हैं स्मार्टफोन की कुछ अफवाह जो होता है झूठ लेकिन मानते हैं सच । तो आइए जानते हैं कौन कौन सी ऐसी वह अफवाह है जो लोग सच मान लेते हैं।

false rumor about phone hindi

false rumor about phone hindi


=ज्यादा सिग्नल मतलब ज्यादा नेटवर्क
बहुत लोगों का मानना है कहना है कि फोन में जितनी ज्यादा सिग्नल होगा तो उतने ही अच्छी नेटवर्क मिलेगा। यह हर कोई जानता है, मानते भी है। अक्सर देखते आए हैं कि फोन की जो सिग्नल बार है वह जितनी ज्यादा होगी तो इतनी अच्छी होगी। कोई अगर फोन पर बात कर रहा है तो अगर सिग्नल बार कम हो जाए तो वह अलग खुले जगह चले जाते हैं ताकि ज्यादा सिग्नल मिल सके। पर हम आपको बता दें यह सब काल्पनिक बातें हैं।  सिग्नल स्टिक सिर्फ टेलीकॉम कंपनी की टावर की नज़दीकियां की जानकारी देते हैं। सिगनल क्वालिटी डिसएबल पर निर्भर करती है। आपने देखा होगा कि कोई बार सिग्नल कम होते हुए भी अच्छी तरह से बात होती है तो कोई बार फुल सिग्नल होते हुए भी फोन कट जाता है।

=Background apps
कोई लोगों का माना है की फोन में जो चल रहा बैकग्राउंड ऐप है उसे बंद कर देना चाहिए। नहीं तो बैटरी जल्दी खत्म हो जाती है। और फोन भी हैंग हो जाती है। पर आपको इस बात का को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है। बल्कि बैकग्राउंड में चल रहे एप्स को बंद करने  की जरूरत नहीं है। रिसेंटली एप्स बैकग्राउंड एप्स नहीं चल रहे होते हैं बल्कि रैम की मेमोरी में स्टोर होते रहते हैं । ताकि आप उसे तुरंत यूज कर सके। एप्पल और एंड्रॉयड दोनों ही डिवाइस में चल रहे बैकग्राउंड को ज्यादा रिएसीबल नहीं रखते। आपको बता दें अगर बैकग्राउंड चल रहे  तो इसे एप्स को दुबारा तेजी से खुलेगा। इससे आपकी फोन में हैंग होने वाली दिक्कत नहीं आने वाली है। वास्तव में किसी ऐप को क्लोज करने से या फिर से खुलने से डिवाइस में ज्यादा प्रेशर पड़ता है। क्योंकि एप्स को फिर से मेमोरी से लोड करना पड़ता है।

=4g karta hai jyada data use
लोग यह भी मानते हैं 3G की बजाय 4G ज्यादा डाटा यूज़ करता है । जैसा कि आप जानते हैं कि 3G की तुलना में 4G बहुत ज्यादा स्पीड होता है। लेकिन यह मतलब यह नहीं कि 4G आपके फोन के ज्यादा डाटा यूज़ करता है। कोई भी वेब पेज हो कोई एप्लीकेशन या डाउनलोड का साइज कोई भी हो जो भी नेटवर्क हो उसकी साइज वही रहेगा । एग्जांपल के तौर पर अगर 10 एमबी का कोई फाइल हो वह 3G या 4G हो उसका साइज है वही रहेगा। अब 3G से डाउनलोड करें या 4G से वह 10mb ही यूज होगा।
false rumor about phone hindi

false rumor about phone hindi


=Smartphone ki hanikarak radiation
मोबाइल से निकली है हानिकारक रेडिएशन आपने तो सुना ही होगा। आपके फोन में आपके लिए कितना खतरनाक है ।फोन पे ज्यादा बात  ना करें, फोन को जेब में ना रखें वगैरा-वगैरा। स्मार्टफोन से निकली रेडिएशन के लिए एक इंटरनेशनल मानक तैयार किया गया है। आपके स्मार्टफोन से कितना रदीशन निकलता है इसके बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए। आजकल हार स्मार्टफोन की बॉक्स में आपको फोन से कितनी रेडिएशन निकलती है उसकी तकनीकी जानकारी दी जाती है। मोबाइल से जो रेडिएशन निकलती है उसे स्पेसिफिक ऑब्जर्वेशन रेट कहते हैं। यानी कि सर (SAR)। भारत में सर 1.6 वाट प्रति किलो से ज्यादा होनी नहीं चाहिए । अगर यह ज्यादा है तो आपके के लिए खतरनाक हो सकता है । इसके लिए अपने स्मार्टफोन से *#07# कोड का इस्तेमाल करके आप SAR जान सकते हैं। ध्यान रहे अगर आपके फोन की रेडिएशन 1.6W से ज्यादा है तो आप अपना फोन तुरंत बदल लेना चाहिए। नहीं तो यह आपके हेल्थ के लिए हानिकारक हो सकता है।

=Auto brightness
कोई लोगों का मानना है ऑटो ब्राइटनेस को ऑटो मोड में नहीं रखना चाहिए इसके कारण फोन की बैटरी ज्यादा खर्च होती है। आजकल हार मोबाइल पर ऑटो ब्राइटनेस की ऑप्शन मौजूद होता है ।ऑटो ब्राइटनेस का मतलब है अगर आप धूप में खड़े हैं तो आपके फोन की ब्राइटनेस ऑटोमेटिक ज्यादा हो जाती है। ताकि आप आसानी से दिख सके । ऑटो मोड में देखने में बैटरी ज्यादा खर्च नहीं होता ।

=गीले फोन को सुखाने के लिए हेयर ड्राई का इस्तेमाल 
गिला फोन को सुखाने के लिए हेयर ड्राई का इस्तेमाल ना करें। अगर आपको फोन बारिश में गीला हो गया है या पानी में गिर गया है तो सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का इस्तेमाल ना करें । यह अपने सुखाने के लिए बहुत कारीगर है पर हेयर ड्रायर का हवा बहुत गर्म होता है जिसके कारण उनके सर्किट डैमेज हो सकता है। और तेज हवा की वजह से पानी बहकर फोन के अंदर जा सकते हैं । जो सुखाने की वजह ज्यादा नुकसान देगा। अच्छा मैं एक उपाय बताता हूं एक उपाय है आप फोन को ऑफ करके पुर्जों को अलग करके चावल में 18 से 24 घंटा दवा के रखे ।चावल बहुत जल्दी से नमी को सुख सकता है।

=Sketch se phone ke liye screen guard jaruri hai
यह सच है की गुजरे वक्त ने स्क्रीन गार्ड बहुत जरूरी होता था। आजकल के स्मार्टफोन में गोरिल्ला ग्लास के तकनीकों से बनाते हैं । गोरिल्ला ग्लास ऐसा होता है कि बहुत क्रस्टलेस ग्लास होता है। इस वजह से आपके फोन की स्क्रीन को बचाने के लिए स्क्रीन गार्ड की जरूरत नहीं है। हालाकि स्क्रीन गार्ड लगाने से टच करने में थोड़ी बहुत प्रॉब्लम होती है।

=Airplane mode par rakhne se phone track nahin kiya ja sakta
यह बिल्कुल गलत है । एयरप्लेन ऑन होने पर भी फोन को ट्रैक किया जा सकता है । एयरप्लेन मोड एक तरह दो नॉट डिस्टर्ब की तरह काम करता है । इससे आपकी सेल्यूलर सर्विस कट जाएगा। जैसा कि वाई-फाई ,ब्लूटूथ GSM । पर ऐसा नहीं कि इसे ट्रैक नहीं किया जा सकेगा । फोन में एक यूज़र इंटरफ़ेस होता है और एक ऑपरेटिंग सिस्टम । यूजर इंटरफेस से सेल्यूलर कनेक्शन बंद हो जाता है पर फिर भी OS एक्टिव रहता हैं।

=Power saving apps
ऐसी बहुत सारे ऐप्स आपको मिल जाएंगे जो आपने फोन की बैटरी को बढ़ाने की दवा करती है ।और पावर सविंग एप्स थर्ड पार्टी ऐप हमारे फोन की बैटरी को ज्यादा खर्च करती है । यह एप्स बैटरी मैनेजर जरूर होता है पर बैटरी बढ़ाने के मामले में नहीं । यह आप दूसरे एप्स की खबर रखता है कौन सा एप्स ज्यादा बैटरी खर्च कर रहा है यह जानकारी देते हैं। इनका काम बाकी एप्स को ध्यान रखना होता है बैटरी बैकअप बढ़ाना नहीं।

=पावरफुल प्रोसेसर से हैंग नहीं होता है फोन
पावरफुल प्रोसेसर से हैंग नहीं होता है फोन। अगर आपके पास फोन में ऑक्टा कोर प्रोसेसर है तो आपको तो लगता है आप तो आपका फोन हैंग नहीं होगा। तो जनाब सोच  बदलने की जरूरत है। अगर 2GB मेमोरी में ऑक्टा कोर प्रोसेसर है तो हाई ग्राफिक गेम्स खेलने पर मोबाइल फोन हैंग हो सकता है। प्रोसेसर डबल करने से फोन की पावर डबल नहीं होती है । उसके वर्किंग के लिए सॉफ्टवेयर भी उतनी ही पावरफुल होना चाहिए।

false rumor about smartphone hindi

दोस्तो और जानने के लिए कॉमेंट करे।में इस टॉपिक पर जरूर पोस्ट लिखूंगा।

Post a comment

0 Comments